मंगलवार, 24 जनवरी 2023

Rajasthan-विधानसभा का बजट सत्र

 India-विधानसभा का बजट सत्र

लोकतंत के मन्दिर कहे जाने वाली जगह लोकसभा,राज्यसभा हो या फिर विधानसभा जँहा पे जनता से जुड़े मुदे सुलझाने के लिये लाखो रुपया खर्च होता है । और राजनीतक पार्टी सड़क से लेकर सदन तक केवल हंगामा करने के अलावा और कुछ नही करती। यही दर्श्य कल फिर से राजस्थान विधानसभा के बजट सत्र के शुरुवात मे देखने को मिला।राज्यपाल अपना अभिभाषण ओर करते उससे पहले ही विपक्ष ने शोर करना शुरू कर दिया।। इसी बीच सदन के विपक्ष के नेता गुलाबचांद कटारिया ने पेपर लिक होने का मुदा बीच मे ही उठा दिया। वंही RLP के तीनो विधायक वेल मे पहुंच गये और जोर जोर से नारे लगाने लगे। सदन को एक बार रोक के कारवाई दुबारा चालू की पर वही इस्थथि बनी रही तो सदन के अध्यक्ष सी पी जोशी ने मार्शल को आदेश दिये की तीनो नेताओ को सदन के बाहर निकाला जाये और उनको दिन भर के लिये निष्काषित कर दिया गया।। अब सोचने वाली बात ये है की क्या विपक्ष थोड़ा सा धर्य रख कर राज्यपाल के अभिभाषण को सुन नही सकता । उसमे उनका क्या नुकसान होता।। क्योंकि सरकार अपने किये हुये कार्य को अभिभाषण मे शामिल करती हैं जो वो सदन मे पढते है । को विपक्ष जनता तक नही जाने देना चाहते है ।ये मानसिकता हमारे सदनो की गरीमा को बहुत बड़ी ठेस पहुंचाने का काम करती है । चाहे पक्ष व विपक्ष मे कोई भी पार्टी हो सबका यही रव्या रहता हैं । क्या सता पक्ष जवलंत मुदो पर जबाब देने मे असमर्थ होता है या ऐसे मुदो पर वार्ता करने से उनके वोट बैंक पे असर पड़ता हैं । क्योँ नही सदन मे ये परिपाटी बनाई जाये की विपक्ष के 5 टॉप के मुदो पर सरकार व विपक्ष शुरुवात के दो दिन वार्ता करके ऐसी गलती दुबारा ना हो इसके लिये सरकार अपने उठाये कदमो को बताये और विपक्ष अपना पक्ष रखे ताकी इनकी पुनरावर्ती रोक सके।। गहलोत जी अपना रटा रटाया जबाब देते है ।। की पेपर लिक को चिंता हमे अधिक हैं ।। गहलोत जी गलती एक बार होती है बार बार होने पे आपकी सरकार को कटघरे मे तो खड़ा होना पड़ेगा ।। गरीब किसानों के लाखो बच्चे शहरो मे अपने गरीब मा बाप का सहारा बनने के लिये पैसा खर्च करते है क्या सरकार उनको इसका मुवावजा देगी नही ना।। आपने तो वैभव का भविष्य RCC के अध्यक्ष का पद देकर संवार दिया क्या उस गरीब का कोई हक नही हैं ।। ये सोशल मीडिया का जमाना हैं आपकी गोपनीय सूचनाये जनता तक पहुंच जाती है तो विपक्ष आपकी उप्लब्धियो को कैसे रोक सकता हैं जरा बताईयेगा।।। आपके किये हुये कार्यो से विपक्ष की हवा निकलती या नही पता नही आपकी हवा जरुर निकल चुकी हैं । इसलिये आप केवल हवा मे बाते करते रहते हो।। आपमे गांधी होता तो सदन मे आपके सहयोगी सचिन से बात करते बड़े होने का एग्ज़ाम्पल देते लेकिन आपका अभिमान आपको रोक देता है ।। और जैसे ही सदन का समय पुर होता है पक्ष विपक्ष के बीच अची खासी रामा श्यामा होती है । इसलिये जनता को जनता की आवाज बनने वाले नेताओ को आगे लाना चाहिये।। अन्यथा ये लोग सामाजिक-आर्थिक विकास का महिमा मंडित करके केवल अपनी रोजी-रोटी के अलवा इनको जनता से कोई सरोकार नही।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

If you have any suggestions for betterment.Pls let me know

जयपुर गुलमोहर गार्डन मे कार्पेंटर की धोखाधड़ी।

 पढ़े लिखे लोग भी बन रहे हैं ठगी का शिकार                           जयपुर मे आशियाना बिल्डर की सोसाइटी गुलमोहर गार्डन जो वाटिका मे हैं। यंहा ...